सोमवार, 30 दिसंबर 2013

​एक ब्राहम्ण ने कहा है कि ये साल अच्छा है .....





भूख के मारे कोई बच्चा नहीं रोयेगा
चैन की नींद हर एक शख्स  यहाँ सोयेगा 

आंधी नफ़रत की चलेगी न कहीं अब के बरस 
प्यार की फसल उगाएगी ज़मीं  अब के बरस

है यक़ीं अब न कहीं शोर शराबा होगा 
ज़ुल्म होगा न कहीं खून खराबा होगा 

औस और धूप के सदमे न सहेगा कोई 
अब मेरे देस में बेघर न रहेगा कोई

नए वादों का जो डाला है, वो जाल अच्छा है 
रहनुमाओं ने कहा है कि ये साल अच्छा है

हमको मालूम है जन्नत की हक़ीक़त लेकिन 
दिल के खुश रखने  को ग़ालिब  ये ख्याल अच्छा है ​



​-मक़बूल ग़ालिब 

शुक्रवार, 27 दिसंबर 2013

जंगल की बेटी

[hyacinths4.jpg]

हरसिंगार की महक के जैसी, हर दिल पर छा जायेगी 
रुत की एक सहेली है वह, रुत संग ही खो जायेगी 

​​भौर किरन के साथ निकल कर बगिया बगिया घूमेगी 
शाम ढले सूरज के संग ही बादल में सो जायेगी 

लहरों लहरो टूट के  साहिल के सीने पर बिखरेगी 
बादल बादल रक़्स करेगी, चिड़ियों के संग गायेगी 

अम्बर के कच्चे रंगों पर पंछी बन कर डोलेगी 
घास के ताज़ा फूलों में फिर चटखेगी मुस्कायेगी 

कोहरे के आँचल में लिपटे हलके गीले बाल लिए 
धान के जैसी बाली  उमर में गीत खुशी के गायेगी 

चाँद किरन के झूले में वह तारों से बतियाएगी
सुबह सवेरे शबनम बन कर , हर गुंचा धो जायेगी 

तेरे सुनहरे क़ैद में कैसे, ये अल्हड़ जी पायेगी 
मालो -ज़र के ढेर में दब कर ये पगली खो जायेगी 

जंगल की वहशत फिर उसमे मार रही है लश्कारे 
जंगल की बेटी वापस फिर जंगल की हो जायेगी 

                                                       - सेहबा जाफ़री 

गुरुवार, 12 दिसंबर 2013

मैं तो जनम -जली






दुःखों की साईत  शायद बहुत भारी है 
यह संजोग बली 
मैं  तो जनम -जली
 
बिरहा के द्वार पर बधाई बजी है 
देने शगुन चली 
मैं  तो जनम -जली 

मेरे तन के फूल में मन की सुगंधी 
उड़ी, कहाँ चली 
मैं  तो जनम -जली 

शायद तेरे इश्क़ ने भेस बदला है 
मेरी उम्र छली 
मैं  तो जनम -जली 

तेरे लिए मैंने दुनिया छान ली 
तेरी कौन गली 
मैं  तो जनम -जली 

होंठो के बागों में सिर्फ ठण्डी  साँसे हैं 
उसमे चम्पा की कली 
मैं  तो जनम -जली 

आँखों की टहनी पर आँसू  पक गए हैं 
चख लो दर्द फली 
मैं  तो जनम -जली
 
अमृता  प्रीतम 


बुधवार, 13 नवंबर 2013

आज़ादी औरत की





आज़ादी की कीमत उन चिड़ियों से पूछो 
जिनके पंखो को कतरा है, आ'म  रिवाज़ों ने  
आज़ादी की कीमत, उन लफ़्ज़ों से पूछो 
जो ज़ब्तशुदा साबित हैं सब आवाज़ों  में

आज़ादी की क़ीमत, उन ज़हनो से पूछो 
जिनको कुचला मसला है, महज़ गुलामी को 
आज़ादी की क़ीमत , उस धड़कन से पूछो 
जिसको ज़िंदा छोड़ा है, सिर्फ सलामी को

आज़ादी की क़ीमत उन हाथों से पूछो 
जिनको मोहलत नहीं मिली है अपने कारों की
 आज़ादी की क़ीमत  उन आँखों से पूछो 
जिनको हाथ नहीं आयी है, रौशनी तारों की

जो ज़िंदा होकर भी भेड़ों सी हांकी जाती है 
आज़ादी भी रस्सी बाँध के जिनको दी जाती है   
जिस्मों से तो बहुत बड़ी जो मन से बच्ची हैं 
अब्बू खां की बकरी भी उन से अच्छी है 

-सहबा जाफ़री 

गुरुवार, 24 अक्तूबर 2013

कबीर के लिये......


ख़िराज -ए -अक़ीदत



हर एक लफ्ज़ जो अपने लहू से धोते हैं 
हर एक हर्फ़ को ख़ुश्बू में में फिर भिगोते हैं 

न हो मुश्क़  तो मो'अत्तर  हैं ये पसीने से 
इन्ही के दम से ज़माने, ज़माने होते हैं
इन्हीं के नाम से  ज़िंदा है, ताब-ए -हिन्दुस्तां
इन्ही के नाम नये सूरज उजाले  बोते हैं 

जो लब खुलें तो पलट दें ये कायनात का नक़्शा 
जो उठ गए तो, नक़्शे पे मीर होते हैं 

यहाँ कहाँ है  ज़रूरत  नए पयम्बर की
ये वो ज़मीन है जहां नाज़िल कबीर होते हैं
- सहबा जाफ़री 
ख़िराज -ए -अक़ीदत -श्रद्धांजलि 


दिल-दिमाग को टटोल याद करने की कोशिश करती हूँ कि कबीर से मेरा परिचय कितना पुराना है। कक्षा 3 में पढ़े 'नीति के दोहे' जितना या कक्षा छ: में दोहे याद ना कर पाने की एवज तड़-तड़ पड़ती छड़ी जितना। कक्षा नौ की व्याख्या के साढ़े तीन नंबर या बीए फाईनल के 15 नंबरों की चिंता। या फिर घोर साहित्यिकता के वे नाजुक पल जब कबीर पढ़ते-पढ़ते आँखें अनायास ही जल-थल हो जाया करती थी। 

अंधों की बस्ती में रोशनी बेचते कबीर वाक़ई अपने आने वाले समय की अमिट वाणी थे। कबीर का जन्म इतिहास के उन पलों की घटना है जब सत्य चूक गया था और लोगों को असत्य पर चलना आसान मालूम पड़ता था। अस्तित्व, अनास्तित्व से घिरा था। मृत प्राय मानव जाति एक नए अवतार की बाट जोह रही थी। ऐसे में कबीर की वाणी ने प्रस्फुटित होकर सदियों की पीड़ा को स्वर दे दिए। अपनी कथनी और करनी से मृतप्राय मानव जाति के लिए कबीर ने संजीवनी का कार्य किया। 

इतिहास गवाह है, आदमी को ठोंक-पीट कर आदमी बनाने की घटना कबीर के काल में कबीर के ही हाथों हुई। शायद तभी कबीर कवि मात्र ना होकर युगपुरुष कहलाए। 'मसी -कागद छुए बगैर ही वह सब कह गए जो कृष्ण ने कहा, नानक ने कहा, जीसस ने कहा और मोहम्मद  ने कहा। मजे की बात, अपने साक्ष्यों के प्रसार हेतु कबीर सारी उम्र किसी शास्त्र या पुराण के मोहताज नहीं रहे। न तो किसी शास्त्र विशेष पर उनका भरोसा रहा और ना ही जीवन भर स्वयं को किसी शास्त्र में बाँधा। 

सच है, कबीर ने समाज की दुखती रग को पहचान लिया था। वे जान गए थे कि हमारे सारे उत्तर पुराने हो गए हैं। नई समस्याएँ नए समाधान चाहती हैं। नए प्रश्न, नए उत्तर चाहते हैं। नए उत्तर, पुरानेपन से छुटकारा पाकर ही मिलेंगे। तभी तो कबीर के दुस्साहस ने उनसे लिखवाया था -

'तू जो बामण-बामणी जाया, 

और राह ह्वै क्यों नहीं आया' 
अथवा 
तू जो तुरक-तुरकनी जाया 
भीतर खतना क्यों ना कराया। 


यह कबीर की ही नवीन सोच का परिणाम था कि ब्राह्मण, क्षत्रिय, शुद्र, एवं वैश्यों में टूटा समाज फिर से एकजुट होकर बाह्य शक्तियों का सामना करने में सक्षम हो पाया। 

देश स्वतंत्र हुआ। जिंदगी पटरी पर आई और अब कबीर समाज सुधारकों की अपेक्षा साहित्यकारों की विषयवस्तु हो गए। कागज-कलम उठा यमक-अनुप्रास ढूँढते साहित्य के विद्यार्थी कबीर के संत कम और साहित्यकार अधिक होने पर जोर देते रहें।

कर का मन का डार के 

मन का मनका फेर' 
ह सहज संदेश भारी -भरकम साहित्यिक विश्लेषण के नीचे दब कर कराह उठा। कबीर कहाँ थे, जो कह सके ' मन की आँखों से व्याख्या करों'। हम रोटी-कपड़ा-मकान की जरूरतों से उबरे , (देश अब प्रगतिशील जो हो गया था।)। अब हमारे पास मनोरंजन के वृहद साधन और विशद् पल मौजूद थे। ऐसे में कबीर की फक्कड़ता गायकों और कवियों को रम गई। कहीं से गूँज उठा : 

ND

भला हुआ मेरी मटकी फूटी रे 
मैं तो पनिया भरन से छूटी रे 


तो कहीं गूँजा : 
अव्वल अल्ला नूर उपायै़ कुदरत के सब बंदे 

एक नूर से सब जग उपजा, कौन भले कौं मंदे...! 


अब कबीर सभ्य समाज की 'कॉफी विद कबीर' वाली चर्चा हो गए। आखिर पैसा और नाम दोनों ही उगाया जा सकता था कबीर से। कबीर पर फिल्में बनी। उनका दृष्टिकोण वृत्तचित्रों में ढला। और हमने दुनिया के समक्ष मिसाल प्रस्तुत की-' हम दुनिया की सबसे लचीली सभ्यता के अनुयायी हैं'। पर अफसोस हमने आज भी जात-बिरादरी और कुल के अहं को नहीं त्यागा- 'एल्लो, कबीर पढ़ते हैं
इसका यह मतलब तो नहीं है... हाँ नी तो...! अंतस में आज भी यह वाक्य माँ द्वारा पिलाई पहली घुट्टी सा क्यों अटका पड़ा है? 

सोचने बैठती हूँ तो लगता है कबीर जो अंधी आस्थाओं के घोर विरोधी थे। कबीर जो मंदिर-मस्जिद, काबा-काशी, टोपी-तिलक, मूर्ति पूजा, मजार-परस्ती आदि बाह्य आडंबरों का विरोध किया करते थे, इनका 'जन्म' ,इतिहास के भाल पर अमिट घटना है या 'मृत्यु'? समाज, जाति और धर्म के ठेकेदार कितना प्रसन्न हुए होंगे कबीर की मृत्यु पर? 'ॐ पवित्राय नम:,पवित्राय नम:' का जप करते पंडित जी और 'लाहौल-विला-कूवत, कमबख्त (कबीर) ने बड़ा खराबा किया था' कह कर लानत भेजते मौलवी साहब तो मेरे तसव्वुर में अपना पूरापन समेटे बड़ी शान से रक्स कर रहे हैं। 

श्रुतियाँ, स्मृतियाँ और वृत्तियाँ सब चूक गईं हैं। धर्म के ठेकेदार प्रसन्न हो रहे हैं। सफेदपोश खुश-खुश डोल रहे हैं। समाज के बूढ़े लोगों के उत्साह का कोई ठिकाना नहीं है। कर्मकांडों के वृक्षों में उमंगों की कोंपलें फूटने लगी हैं। मरे हुए उत्तरों को पुनर्जीवित कर, उच्च स्वर में उनका पुनर्पाठ किया जाने लगा है। मुल्ला-पुरोहितों की दुकान फिर सियासतदारों के साथ सजने लगी हैं। समाज फिर से कबीर पूर्व का समाज बनने लगा है। 

सवाल है हम इन मरे हुए उत्तरों से कब छुटकारा पाएँगे? कब मुक्त हो सकेंगे इन बेजान जवाबों से? क्या हम इंसान होकर संतुष्ट होना सीखेंगे? क्या वक्त के हाशिए पर मन की इस बेचैनी के निवारण हेतु फिर कोई पयम्बर उठेगा, जो कबीर की तरह साहस करेगा यह कहने का  कि : 
वक्त  की सीढ़ियों पे लेटे हैं 
इस सदी के कबीर हैं हम लोग- (मुनव्वर राणा )
- सहबा जाफ़री 
- प्रस्तुति : लोरी (वेबदुनिया से साभार)  

रविवार, 13 अक्तूबर 2013

गुलों में रंग भरे


  
गुलों  में रंग भरे,  बाद -ए -नौ बहार चले 
चले भी आओ कि  गुलशन  का  कारोबार चले 

क़फ़स उदास है यारों ,सबा से कुछ न कहो 
कहीं तो बहर -ए -ख़ुदा , आज ज़िक्र -ए -यार चले 

कभी तो सुबह तेरे कुञ्ज-ए -लब  से हो आग़ाज़ 
कभी तो शब सरे काकुल से मुश्क़ -बार चले

बड़ा है दर्द का रिश्ता ,ये दिल ग़रीब सही 
तुम्हारे नाम पे' आएँगे ग़म -गुसार चले 

जो हम पे गुज़री सो गुज़री मगर शब् -ए- हिज्राँ 
हमारे अश्क़ तेरी आक़बत  सँवार चले 

​​मक़ाम फैज़ कोईं  राह में जँचा ही नहीं 
​​जो कू -इ -यार से निकले तो ,सू -ए -दार  चले
                                     - फैज़  अहमद  फैज़