रविवार, 28 अप्रैल 2013

:)


       मस्जिद  के ज़ेरे साया  एक घर बना लिया है 
            ये बन्दा -ए -कमीना , हमसाया-ए  खुदा है ......

                        

गुरुवार, 11 अप्रैल 2013

बाग़ -ए -बहिश्त से मुझे हुक्म-ए -सफ़र  दिया था क्योँ 
कार-ए -जहाँ  दराज़ हैं ,अब मेरा इंतज़ार कर
  
                                                                   -अल्लामा इक़बाल