गुरुवार, 11 अप्रैल 2013

बाग़ -ए -बहिश्त से मुझे हुक्म-ए -सफ़र  दिया था क्योँ 
कार-ए -जहाँ  दराज़ हैं ,अब मेरा इंतज़ार कर
  
                                                                   -अल्लामा इक़बाल 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

शुक्रिया, साथ बना रहे …।