रविवार, 8 अप्रैल 2012

समन्दरों के उधर से कोई सदा आयी .....


"कहीं रहे वो मगर खैरियत के साथ रहे
उठाये हाथ तो लब पर यही दुआ आयी ..."
- परवीन शाकिर


3 टिप्‍पणियां:

  1. सर्दियों के हालात...इतनी सारी अंगूठियों वाले हाथों की दुआ ! किस की मजाल है जो ताईद-ए-दुआ ना करे :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहरहाल पेशकश 'खूबसीरत' है !

    उत्तर देंहटाएं

शुक्रिया, साथ बना रहे …।