शनिवार, 11 फ़रवरी 2012

यूं देखती है जैसे नहीं देखती नज़र
ज़ालिम के देखने का अंदाज़ देखिये....

1 टिप्पणी:

शुक्रिया, साथ बना रहे …।