मंगलवार, 8 अक्तूबर 2013

मोती



सदफ़ में उतरूँ तो गुहर  बन  भी जाऊं 
सदफ़   से  पहले मगर  हल्क़ - ए- नहंग में हूँ 
-परवीन शाकिर
 

                
अर्थ                
हल्क़ - ए- नहंग- मगरमच्छों का घेरा 
सदफ - सीप
गुहर - मोती 
 

4 टिप्‍पणियां:

  1. भाई शाहनवाज़ ,
    उन्होंने बेहतरीन लिखा सो ठीक ही है...पर लोरी साहिबा बेहतरीन चुनती हैं ये बहुत बहुत ठीक है !

    उत्तर देंहटाएं

शुक्रिया, साथ बना रहे …।