मंगलवार, 20 सितंबर 2011

ख़ुदा हाफिज़






मरहबा मरहबा , खुदा हाफिज़
ऐ वफ़ा आशना ख़ुदा हाफिज़

कोई उनका ख़ुलूस तो देखे
क़त्ल करके कहा ख़ुदा हाफ़िज़

अच्छा अब फिर मिलेंगे ऐ नासेह!
उनका घर आ गया ख़ुदा हाफिज़

जाने क्योँ आज साज़े-हस्ती से
आ रही है सदा ख़ुदा हाफिज़

वक्ते- आखिर वो मुझसे यूँ बोले
आज से आपका ख़ुदा हाफिज़

बैठे बैठे हयात ने अख्तर
दफ'अतन ये कहा ख़ुदा हाफिज़
- अख्तर ग्वालियरी

2 टिप्‍पणियां:

शुक्रिया, साथ बना रहे …।