मंगलवार, 10 मार्च 2020

वर्तमान समय एवं मीडिया की प्रासंगिकता

सुनते हैं बडी तरक्की कर ली है हमने! सभी कुछ आधुनिक हो गया है। भक् भक् कर  जलती बत्तियाँ, पिटर पिटर कर मटकती थिरकती परियाँ, सुंदर आलीशान इमारतें, उनके पोर्टिको मे खड़ी बडी बडी गाड़ियाँ! कम्प्युटर, रोबोट, ढेर सी मशीनें। बहुत सा समय बचने लगा है अब पास मे! खूब सी आसान ज़िंदगी मे अब खुद के लिए संजोने का खूब सा वक्त जुटाया जा सकता है।

पहले जिन खबरों को जानने समझने के लिए घर से दूर घोटूल तक जाना पड़ता था अब वही खबरे एक क्लिक पर खुद घर पर आ जाती हैं! सब मीडिया की कृपा है! कितना कुछ सीख गए हैं हम सब!!

बच्चे सीख गए हैँ बडी बडी बाते!  दूध के दांत टूटने से पहले याद हो जाती हैं उन्हें "बॉय फ्रेन्ड, और गर्ल फ्रेन्ड की परिभाषा। बडी बडी स्पेलिंग से पहले सीख जाते हैं वे सास बहू के सीरियल की खुरफातें!  मैकेनिकल लैब से ज्यादा भरोसा होता है उन्हें नागिन के सीरियल के चमत्कारों पर! वोट देने की उम्र से पहले वे सीख जाते हैं कि उनके मां पिता किस पार्टी के हैं और आगे उन्हें किस  पार्टि का सहयोग देना है!!
            भला हो मीडिया का! बच्चे सयाने कर दिये हैं इसने! वे जानने लगे हैं, "मिड लाइफ क्राइसेज़,  मैरिड लाइफ, क्राईसेज़ और डिफ्रेंट सेक्सुअल प्लेज़र के बारे मे। उन्हें पता है  अनचाहे गर्भ से कैसे छुटकारा पाते हैं! और क्या करने से लडकी प्रेग्नेंट नही होती!! (एक हम लोग बुद्धू थे, कुछ अता था न पता!)

    उन्हे नही चाहिए शिक्षक! सारे नोट्स तो अपलोड हैँ नेट पर;!! वे समझते हैं हिन्दू, मुस्लिम,  जात पात, शादी ब्याह, देश विदेश, डाईनोसोर और  पुरातन मानव! मीडिया सब बता रहा है उन्हे!!

  चार साल की बच्ची को भी समझ आने लगा है कि लड़की होने के नाते उसका खूबसूरत दिखना कितना आवश्यक है! और ८ साल का लड़का भी समझ चुका है कि  श्रम के चक्कर में पड़े बगैर कौनसा रसायन खा कर अपने बाज़ू २२ के करने है।

सब मीडिया की ही कृपा है  बच्चा गर्भ मे ही बड़े बड़े ज्ञान सीख जाता है वह भी अतिशयोक्ति अलंकार समेत! वरना माँ के भरोसे रहे  अभिमन्यू बस चक्रव्यू मे जाना ही सीखे थे, गूगल किया होता तो  वापस आना भी सीख जाते!

       कभी कभी तो मीडिया अ नव रत सिखा ए  चला जाता है,इतना कि तो हम यह भी भू ल जाते हैं कि क्या सीख ने निकले थे औ क्या ही सीख गए हैं। अभी कल का ही लो एक न्यू ज़ चै नल पर दो  राजनैतिक दलों की बहस चल रही थी विपक्षी दल ने अन्य दल पर वाक प्रहार किया, "आपने चूड़ियाँ पहन रखी थीं" देश, विकास, सड़क, परिवहन, शिक्षा, बेरोज़गार युवा , गरीबी और  बड़े बड़े सरकार पलटने वाले मुद्दे एक तरफ!  और चूड़ियों का राग एक तरफ! वह नाच चला कि श्रीदेवी के नौ नौ चूड़ियों के नाच भी शरमा जायें!  पब्लिक यह भी भूल गई कि वह यह बैठी क्यों थी!! और मै यह भूल  गई कि मैंने tv क्यों चलाया था! 
     धन्य धन्य है मीडिया! बच्चों को आखिरकार सिखा ही देता है कि स्याह को सफेद और सफ़ेद को स्याह कैसे बताते हैँ! मीडिया बताता है कि चाटुकारिता यदि  एक पंखे की भी करनी हो तो उसकी हवा के वेग को इतना तेज़ बता दो कि पलायन वेग भी शर्मा जाये!!!
 मीडिया ने ही तो समझाया है ब्लू व्हाल खेलो, फेस् बुक चलाओ, पोर्न देखो, ओन लाइन शॉपिंग करो, खुश रहो! बेवकूफ सनकी बुढे राजनिति के लिए हैं, रिटायर्ड प्रोफेसर्स  अनुसंधान करेंगे,  और गणित के नये आयाम तलाश करने के लिए उन मुल्कों के बच्चे हैं, जहाँ मीडिया नही होता!!


8 टिप्‍पणियां:

Unknown ने कहा…

Ausm ,, yee akhrii mohbaat hai khullii panno ki kitabon ki .

lori ने कहा…

haha! sahi kaha

Unknown ने कहा…

Sahi kaha ji

yashoda Agrawal ने कहा…

आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज बुधवार 11 मार्च 2020 को साझा की गई है...... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

उपयोगी आलेख

अजय कुमार झा ने कहा…

अभी तो हालात बद से और अधिक बदतर होंगे स्थति विकट है इंसान को अपने विकास की कीमत भी खुद ही चुकानी होगी

Shah Nawaz ने कहा…

कहा तो बिल्कुल सही है, पर अब मीडिया अपने आकाओं के हिसाब से चलता है इसलिए सच गुम हो जाता है...

Astrologer Sidharth ने कहा…

यह परिवर्तन का दौर है, इसे इसी पीढ़ी को झेलना ही पड़ेगा। धीरे धीरे यह भी संभल जाएगा।