शनिवार, 26 नवंबर 2011



"ज़िंदगी तो बेवफा है, एक दिन ठुकराएगी
मौत महबूबा है अपने साथ लेकर जायेगी ......."

1 टिप्पणी:

  1. वो जो लम्हा सामने है फिर चाहे जैसा भी हो , उसे ही निभाया जाये और जिसका होना पता ही नहीं कि वो कैसा होगा , उस गायबाना पे यकीन क्यों ?

    उत्तर देंहटाएं

शुक्रिया, साथ बना रहे …।