बुधवार, 6 अक्तूबर 2010

"एक ख़त हमको मिला है आसुओं के गाँव से
दर्द अब चलने लगा है , नन्हे-नन्हे पाँव से ....."
-परवीन शाकिर

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

शुक्रिया, साथ बना रहे …।